SEARCH SOME THING...

मंगलवार, 17 अप्रैल 2018

राधानाथ राय (अंग्रेज़ी: Radhanath Rai, जन्म- 27 सितम्बर, 1848; मृत्यु- 17 अप्रैल, 1908

राधानाथ राय (अंग्रेज़ीRadhanath Rai, जन्म- 27 सितम्बर, 1848; मृत्यु- 17 अप्रैल1908उड़िया भाषा-साहित्य के प्रमुख कवि थे।

परिचय

राधानाथ राय का जन्म 1848 ई. में बालेश्वर के केदारपुर गाँव में हुआ था। राधानाथ उड़िया भाषा-साहित्य के प्रमुख कवि थे। वे शरीर से दुर्बल थे। उन दिनों उच्च शिक्षा के लिए कोलकाता जाना पड़ता था। स्वास्थ्य के कारण वे मैट्रिक की परीक्षा के बाद कोलकाता नहीं रुक सके। लेकिन एक विशेष बात यह थी कि वे अपने ज़िले में मैट्रिक पास करने वाले पहले व्यक्ति थे। इसलिए उनको अध्यापक की नौकरी सरलता से मिल गई और आगे चलकर वे स्कूलों के डिवीजनल इंस्पेक्टर पद तक पहुँचे।

रचनाएँ

स्वाध्याय से राधानाथ राय ने अनेक भाषाओं का ज्ञान प्राप्त कर लिया। काव्य की प्रतिभा उनमें नैसर्गिक थी। वे प्रकृति के पुजारी थे और प्रकृति में उन्हें परमात्मा के सत्ता के दर्शन होते थे। इस दृष्टि से उनकी मनोरम काव्य कृति 'चिलिका' बहुत प्रसिद्ध हुई। उन्होंने पौराणिक, ऐतिहासिक और काल्पनिक आधार पर 'केदारगौरी', 'चंद्रभागा', 'महायात्रा', 'ऊषा' आदि काव्य ग्रंथों की रचना की। उनकी रचनाओं से देश प्रेम और ग़रीबों के प्रति सहानभूति का परिचय मिलता है।

निधन

राधानाथ राय का निधन 17 अप्रैल1908 को हुआ था।

कोई टिप्पणी नहीं:

YOU CAN COMMENT/SEND/CONTACT US HERE

नाम

ईमेल *

संदेश *