SEARCH SOME THING...

गुरुवार, 5 अप्रैल 2018

पन्नालाल पटेल (अंग्रेज़ी:Pannalal Pate

पन्नालाल पटेल (अंग्रेज़ी:Pannalal Patel, जन्म: 7 मई1912राजस्थान; मृत्यु: 5 अप्रैल1989गुजरातगुजराती भाषा के जानेमाने साहित्यकार थे। उन्हें 'रणजितराम पुरस्कार' तथा 'ज्ञानपीठ पुरस्कार' से सम्मानित किया गया था। वे गुजराती के अग्रणी कथाकार रहे। लगभग छह दशक पूर्व गुजराती साहित्य जगत् में उनका अविर्भाव एक चमत्कार माना गया था।

जीवन परिचय

गुजराती साहित्यकार पन्नालाल पटेल का जन्म 7 मई, 1912 को राजस्थान राज्य के डूंगरपुर ज़िले के मंडली नामक गाँव में हुआ था। उनके पिता एक साधारण किसान थे। पन्नालाल जी की शिक्षा-दीक्षा के बारे में जानकारी के रूप में कहा गया है कि उन्होंने प्राथमिक तक शिक्षा ग्रहण की थी, जिसको अंग्रेज़ी में चार मानक से पहचाना जाता है।

लेखन कार्य

पन्नालाल पटेल के लेखन कार्य के बारे में बताया जाये तो अगणित लेखन कार्य और प्रकाशन कार्य उन्होंने किया था, जिसमें उपन्यासकहानियाँनाटकजीवनी, बच्चों के साहित्य और विविध प्रकार के अन्य लेख भी शामिल हैं। उनके सहित्य का भारत की लगभग सभी भाषाओं में अनुवाद हो चुका है।
लगभग छह दशक पूर्व गुजराती साहित्य जगत् में पन्नालाल पटेल का अविर्भाव एक चमत्कार माना गया। ग्रामीण जीवन के आत्मीय एवं प्रामाणिक चित्रण के साथ ही उन्होंने लोकभाषा का प्रयोग कुछ इस प्रकार किया कि उसकी गति और गीतात्मकता गुजराती गद्य के सन्दर्भ में अपूर्व मानी गयी। पन्नालाल पटेल की सर्वोत्कृष्ट इक्कीस कहानियों की चयनिका ‘गूँगे सुर बाँसुरी के’ कथा साहित्य के सुधी पाठकों के लिए उपलब्ध हो चुकी है। इन कहानियों में उन्होंने प्रायः दलित, पीड़ित, उत्पीड़ित मनुष्य को अपना विषय बनाया है।

उपन्यास 'जीवी'


'जीवी' उपन्यास का आवरण पृष्ठ
'जीवी' पन्नालाल पटेल के प्रसिद्ध उपन्यासों में से एक है। यह उपन्यास राजस्थान और गुजरात के सीमा-प्रदेशवर्ती एक गाँव पर आधारित है और इसमें आंचलिक उपन्यासों की परम्परा का नितान्त स्वाभाविक तथा अत्यन्त भव्य रूप देखने को मिलता है। इस उपन्यास के साल-सवा साल के कथा-काल में ग्राम्य-जीवन की सरलता, निश्छलता, अन्ध-विश्वास और बात पर मर मिटने की वृत्ति पग-पग पर प्रकट होती है। भाषा ठेठ ग्रामीण है, जिसमें लेखक ने अनेक बहुमूल्य अनुभव सूक्तियों के रूप में पिरो दिए हैं। लेखक का कथाशिल्प अद्वितीय है। मेले से ही उपन्यास का आरम्भ होता है और मेले से ही अन्त।

पुरस्कार व सम्मान

भारतीय साहित्य में विशिष्ट योगदान के लिए पन्नालाल पटेल को 1950 में 'रणजितराम पुरस्कार' से सम्मानित किया गया था और 1985 में 'ज्ञानपीठ पुरस्कार' से भी सम्मानित किया गया था।

मृत्यु


पन्नालाल पटेल की मृत्यु 5 अप्रैल सन 1989 को अहमदाबादगुजरात में हुई।

कोई टिप्पणी नहीं:

YOU CAN COMMENT/SEND/CONTACT US HERE

नाम

ईमेल *

संदेश *