SEARCH SOME THING...

गुरुवार, 19 अप्रैल 2018

कीरत सिंह जू देव (अंग्रेज़ी: Keerat Singh Ju Dev, जन्म- 11 दिसम्बर, 1683 ई; मृत्यु- 19 अप्रैल, 1728 ई.)

कीरत सिंह जू देव (अंग्रेज़ीKeerat Singh Ju Dev, जन्म- 11 दिसम्बर, 1683 ई; मृत्यु- 19 अप्रैल, 1728 ई.) घोषचन्द्र वंशीय नरेश थे। 17वीं शताब्दी में इन्होंने तत्कालीन 'घोरा'[1] राज्य को संपूर्ण बुन्देलखंड में गौरवपूर्ण स्थान दिलाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

जन्म तथा राज्य विस्तार

कीरत सिंह जू देव का जन्म 11 दिसम्बर, 1683 ई. में घोरा राजपरिवार में हुआ था। महज 20 वर्ष की अल्पायु में ही उन्होंने अपने राज्य की सीमा का विस्तार ओरछा राज्य की सीमा तक कर लिया था।

प्रजावत्सल

कीरत सिंह जू देव एक कुशल योद्धा होने के साथ-ही-साथ प्रजापालक भी थे। लोक कल्याण के कार्यों के लिए उन्होंने बहुत प्रयत्न किए थे। उन्होंने घुवारा में 'जगदी स्वामी मंदिर' का निर्माण भी करवाया था, जिसमें जगन्नाथपुरी से भगवान जगदीश स्वामी की प्रतिमा लाकर स्थापित करवाई थी। उन्होंने घुवारा में ही 'कीरत सागर तालाब' का भी निर्माण कराया था।[2]

वीरगति

1727 ई. में जब नबाव वंगश ने बुन्देलखण्ड पर आक्रमण किया तो बुन्देलखण्ड केशरी महाराजा छत्रसाल ने नबाव का प्रतिरोध करते हुए उससे युद्ध किया। इसी समय बुन्देलखण्ड की आन, वान और शान बचाने के लिए 45 वर्ष की आयु में महाराजा कीरत सिंह जू भी इस युद्ध में छत्रसाल की ओर से शामिल हुए और नबाव के साथ भीषण युद्ध किया। बुन्देलखण्ड के स्वाभिमान की रक्षा में ही इसी युद्ध में लड़ते हुए 19 अप्रैल, 1728 ई. को महाराजा कीरत सिंह जू देव ने वीरगति प्राप्त की।

कोई टिप्पणी नहीं:

YOU CAN COMMENT/SEND/CONTACT US HERE

नाम

ईमेल *

संदेश *