SEARCH SOME THING...

गुरुवार, 5 अक्तूबर 2017

विनोद खन्ना:जीवन,फिमें,कार्य एवं योगदान!

जन्म 6 अक्टूबर 1946 (आयु 70)[1]पेशावर (1901–55), ब्रितानी भारत(अभी, पाकिस्तान)
मृत्यु 27 अप्रैल 2017 [2]मुम्बई
जातीयतापंजाबी समुदाय
व्यवसायअभिनेता ,राजनीतिज्ञ
जीवनसाथी
बच्चेगीताजंलि (1971–1985 तलाक)कविता (1990–2017 (निधन तक)) राहुल खन्ना (पुत्र)अक्षय खन्ना (पुत्र)साक्षी खन्ना (पुत्र)श्रद्धा खन्ना (पुत्री)
पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार
विनोद खन्ना (जन्म: रविवार, ६ अक्टूबर, १९४६ - निधन: गुरुवार, २७ अप्रैल २०१७) हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता थे जिनका जन्म पेशावर (ब्रितानी भारत) में हुआ था जबकि इनका लम्बे समय से कैंसर से पीड़ित रहने की वजह से २७ अप्रैल २०१७ को मुम्बई के एच एन रिलायंस अस्पताल में निधन [3]हो गया [4]।

अनुक्रम

 
  • 1 जीवन2 कैरियर
    • 2.1 फिल्मी सफर
    • 2.2 राजनैतिक कैरियर
  • 3 प्रमुख फिल्में
    • 3.1 बतौर निर्माता

  • 4 नामांकन और पुरस्कार


जीवन

विनोद खन्ना का जन्म एक व्यापारिक परिवार में ०६ अक्टूबर १९४६ को पेशावर ,ब्रितानी भारत (वर्तमान पाकिस्तान) में हुआ था। उनका परिवार अगले साल १९४७ में हुए भारत-पाक विभाजन के [5] बाद पेशावर से मुंबई आ गया था। उनके माता-पिता का नाम कमला और किशनचंद खन्ना था। १९६० के बाद की उनकी स्कूली शिक्षा नासिक के एक बोर्डिग स्कूल में हुई वहीं उन्होंने सिद्धेहम कॉलेज से वाणिज्य में स्नातक किया था।[6]

इनके तीन पुत्र और एक पुत्री है जिसमें अक्षय खन्ना और राहुल खन्ना जो कि दोनों फ़िल्म अभिनेता है। २७ अप्रैल २०१७ को लम्बे समय से कैंसर से पीड़ित रहने के कारण मुम्बई के एच एन रिलायंस अस्पताल में निधन हो गया।

कैरियर

फिल्मी सफर

उन्होंने अपने फ़िल्मी सफर की शुरूआत १९६८ में आयी फिल्म "मन का मीत" से की जिसमें उन्होंने एक खलनायक का अभिनय किया था। कई फिल्मों में उल्लेखनीय सहायक और खलनायक के किरदार निभाने के बाद १९७१ में उनकी पहली एकल हीरो वाली फिल्म हम तुम और वो आयी। कुछ वर्ष के फिल्मी संन्यास, जिसके दौरान वे आचार्य रजनीश के अनुयायी बन गए थे, के बाद उन्होंने अपनी दूसरी फिल्मी पारी भी सफलतापूर्वक खेली और २०१७ तक फिल्मों में सक्रिय रहे।

राजनैतिक कैरियर

वर्ष १९९७ और १९९९ में वे दो बार पंजाब के गुरदासपुर क्षेत्र से भाजपा [10][11]की ओर से सांसद चुने गए थे। जबकि २००२ में वे संस्कृति और पर्यटन के केन्द्रिय मंत्री भी रहे। इसके बाद सिर्फ ६ माह पश्चात ही उनको अति महत्वपूर्ण विदेश मामलों के मंत्रालय में राज्य मंत्री बना दिया गया था।[6]

प्रमुख फिल्में

वर्षफ़िल्मचरित्रटिप्पणी
2007रिस्क
2007चूड़ियाँ
2005पहचानवकील दीपक खन्ना
2002लीला
2002क्रांति
2001दीवानापनरणवीर चौधरी
1997हिमालय पुत्रए सी पी सूरज खन्ना
1997ढालइंस्पेक्टर वरुण सक्सेना
1997दस
1996मुकदमाकप्तान अजीत सिंह
1995हलचलए सी पी सिद्धान्त
1995जनम कुंडली
1994ईना मीना डीकाडीका
1994प्यार का रोग
1994इक्का राजा रानी
1993क्षत्रिय
1993इंसानियत के देवताबलबीर
1992 निश्चयरवि यादव
1992परंपराठाकुर पृथ्वी सिंह
1992हमशक्ल
1992पुलिस और मुज़रिमडी विशाल खन्ना
1992वक्त का बादशाह
1991खून का कर्ज़करन
1991धर्म संकटबिरजू
1991फरिश्ते
1990मुकद्दर का बादशाह
1990लेकिन
1990ज़ुर्म
1990पत्थर के इंसानअर्जुन
1990सी आई डीइंस्पेक्टर वीर
1990महासंग्राम
1989चाँदनीललित खन्ना
1989बटवाराविक्रम सिंह
1989सूर्यासूरज सिंह
1989उस्ताद
1989महादेवअर्जुन सिंह
1988आखिरी अदालतइंस्पेक्टर अमर कौशल
1988रिहाईअमरजी
1988फ़ैसलाबिरजू
1988दयावान
1987इंसाफ
1985सत्यमेव जयतेइंस्पेक्टर अर्जुन सिंह
1983दौलत के दुश्मनविनोद
1982इंसान
1982राजपूतभानू
1982ताकत
1982राज महल
1982दौलत
1981खुदा कसमसुमेर सिंह
1981एक और एक ग्यारह
1981जय यात्राराजू वर्मा
1981कुदरत
1980गरम खून
1980बॉम्बे 405 मील
1980कुर्बानीअमर
1980ज़ालिम
1980द बर्निंग ट्रेनविनोद वर्मा
1979सरकारी मेहमानआनन्द
1979लहू के दो रंग
1979 दो शिकारीसतीश
1979मीराराणा भोजराज सेसोडिया
1979युवराज
1978खून की पुकार
1978खून का बदला खून
1978मैं तुलसी तेरे आँगन कीअजय चौहान
1978आखिरी डाकू
1978डाकू और जवान
1978मुकद्दर का सिकन्दरविशाल आनन्द
1977हत्याराविजय सिंह
1977आप की खातिरसागर
1977इंकार
1977अमर अकबर एन्थोनीअमर
1977खून पसीना
1977परवरिशकिशन
1977जलियाँ वाला बाग़

बतौर निर्माता

वर्षफ़िल्मटिप्पणी
1997हिमालय पुत्र

नामांकन और पुरस्कार

1999 में उनको फिल्मों में उनके 30 वर्ष से भी ज्यादा समय के योगदान के लिए फिल्मफेयर के लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित भी किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

YOU CAN COMMENT/SEND/CONTACT US HERE

नाम

ईमेल *

संदेश *