SEARCH SOME THING...

मंगलवार, 24 अक्तूबर 2017

कमल हासन जीवनी - Biography of Kamal Haasan ( एक सुप्रसिद्ध भारतीय अभिनेता)

      



  कमल हासन एक भारतीय फिल्म अभिनेता, पटकथा लेखक और फिल्म निर्माता है. अभिनय और निर्देशन के अलावा, वह एक पटकथा लेखक, गीतकार, पार्श्व गायक और कोरियोग्राफर हैं. उनका जन्म 7 नवम्बर 1954 को परमकुडी, मद्रास (भारत) में हुआ. वर्ष 1978 में कमल हासन ने ‘वाणी गणपति’ से विवाह कर लिया, किंतु दस साल बाद ही 1988 में इन दोनों का रिश्ता टूट गया. इसके बाद से ही कमल हासन ने सारिका से शादी कर ली. सारिका से कमल हासन की दो बेटियां है श्रुति हासन और अक्षरा हासन. साल 2004 में कमल हासन और सारिका ने तलाक ले लिया. कमल हासन ने अपने सिने करियर की शुरुआत बतौर बाल कलाकार 1960 में प्रदर्शित फ़िल्म ‘कलाधुर कमन्ना’ से की. वर्ष 1975 में प्रदर्शित फ़िल्म ‘अपूर्वा रंगनागल’ में मुख्य अभिनेता के रूप में निभाए गए किरदार से उन्हें पहचान मिली.

        1977 में प्रदर्शित फ़िल्म ’16 भयानिथानिले’ की व्यावसायिक सफलता के बाद कमल हासन स्टार कलाकार बन गए. निर्माता एल.वी. प्रसाद की फ़िल्म ‘एक दूजे के लिए’ में अभिनय किया. फ़िल्म में कमल हासन ने अपने अभिनय से दर्शकों का दिल जीत लिया. 1982 कमल हसन की एक और सुपरहिट तमिल फ़िल्म ‘मुंदरम पिरई’ रिलीज़ हुई, 1985 में कमल हासन रमेश सिप्पी के फिल्म ‘सागर’ में ऋषि कपूर और डिंपल कपाडिया के साथ नज़र आये. 1985 में कमल हासन की एक और सुपरहिट फ़िल्म ‘गिरफ़्तार’ प्रदर्शित हुई, जिसमें उन्हें सुपरस्टार अमिताभ बच्चन के साथ काम करने का मौका मिला.
 
        वर्ष 1981 वह दौर था जब कमल हसन अपनी पहली हिंदी फिल्म से सुपर हित हो गए. निर्माता एल.वी. प्रसाद की फिल्म एक दूजे के लिए में अभिनय किया. फिल्म में उन्होंने एक ऐसे युवक की भूमिका निभाई जो दुसरे धर्म की लड़की से प्यार करने लगता है, जबकि दोनों के परिवार वाले इस रिश्ते के सख्त खिलाफ है. फिल्म में कमल हसन ने अपने अभिनय से दर्शकों का दिल जित लिया. वर्ष 1982 कमल हसन की एक और सुपरहिट तमिल फिल्म मुंदरम पिरई रिलिज हुई, जिसके लिए वह अपने सिने कैरियर में पहली बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रिय पुरस्कार से सम्मानित किए गए. बाद में वर्ष 1983 में सदमा शीर्षक से यह फिल्म हिंदी में रिलीज हुई जिसके कई दृश्य में कमल हसन ने एक ऐसे युवक कि भूमिका निभाई, जो एक युवती कि याददाश्त खो जाने के बाद उसे सहारा देता है और बाद में उससे प्यार करने लगता है, लेकिन बाद में जब युवती कि याददाश्त लौट कर आ जाती है तो वह उसे भूल जाती है और इस सदमें को कमल हसन सहन नहीं कर पाते हैं और पागल हो जाते हैं. हालांकि फिल्म टिकट खिड़की पर असफल हुई, लेकिन सिने दर्शक आज भी ऐसा मानते हैं कि कमल हसन के सिने कैरियर कि यह सर्वश्रेष्ठ फिल्मों में से एक है.

        पुरस्कारों की दृष्टि से पद्मश्री धारक कमल हासन, भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक सम्मानित अभिनेता हैं। उनके नाम सर्वाधिक राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार तथा सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार पाने वाले अभिनेता होने का रिकॉर्ड दर्ज है। इसके अतिरिक्त कमल हासन, पांच भाषाओं में रिकॉर्ड फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार धारक हैं और उन्होंने 2000 में नवीनतम पुरस्कार के बाद संगठन से ख़ुद को पुरस्कारों से मुक्त रखने का आग्रह किया।

शिक्षा

        इसके बाद उन्होंने लगभग नौ वर्षों  तक फ़िल्म इंडस्ट्री से किनारा कर लिया और अपना ध्यान पढाई की और लगाना शुरू कर दिया। सत्तर के दशक में अपने पिता के जोर देने पर उन्होंने अपनी पढाई छोड़ दी और अपना ध्यान फ़िल्म इंडस्ट्री की और लगा दिया। इस बीच, अपने पिता के कहने पर उन्होंने नृत्य की भी शिक्षा हासिल की और कुछ फ़िल्मों में सहायक नृत्य निर्देशक के रूप में भी काम किया।

संबंध

        स्तुत्य और सराहनीय फ़िल्म कॅरियर के बावजूद, उन्हें निजी जीवन में कई बाधाओं का सामना करना पड़ा, जिसका मीडिया ने अनुचित लाभ उठाया. कमल हासन ने अपने कॅरियर की शुरूआत में, लोकप्रिय अभिनेत्री श्रीविद्या के साथ कई तमिल और मलयालम फ़िल्मों में काम किया। 1970 के दशक में कथित रूप से इस जोड़ी के बीच विख्यात प्रेम-संबंध चला था, जिस रिश्ते को 2008 में प्रदर्शित रंजीत की मलयालम फ़िल्म तिरक्कथा में दर्शाया गया, जिसमें अनूप मेनन ने कमल हासन की और प्रियमणि ने श्रीविद्या की भूमिकाएं निभाईं. 2006 में मृत्यु का ग्रास बनने वाली, बीमार श्रीविद्या के अंतिम दिनों में कमल हासन ने उनसे मुलाक़ात की थी। 1978 में, चौबीस साल की उम्र में, कमल हासन ने अपने से बड़ी उम्र की नर्तकी वाणी गणपति से मुलाकात की और उनके साथ शादी की. वाणी ने कमल हासन की फ़िल्मों के लिए कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर का काम संभाला और शादी के तुरंत बाद, कमल हासन के साथ 1980 में आयोजित फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार दक्षिण समारोह में उनकी हमक़दम बन कर चलने के लिए ख़ूब प्रचार पाया। तथापि, दस साल तक एक साथ रहने के बाद, जब यह पता चला कि कमल हासन अपनी सह-अभिनेत्री सारिका के साथ डेटिंग कर रहे हैं, इस जोड़ी के बीच रिश्ता टूट गया और हाल ही के एक साक्षात्कार में कमल हासन ने पुष्टि की कि उसके बाद दोनों के बीच कभी कोई संपर्क नहीं रहा.

पुरस्कार

        उन्हें सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फ़िल्म के लिए अकादमी पुरस्कार प्रतियोगिता में भारत द्वारा प्रस्तुत सर्वाधिक फ़िल्मों वाले अभिनेता होने का गौरव प्राप्त है।कमल हासन को साल 1990 में भारत सरकार द्वारा पद्म श्री भी दिया जा चुका है। मलयालम में उनकी पहली फ़िल्म साल 1974 में 'कन्याकुमारी' के नाम से आई, लेकिन इसी साल आई तमिल फ़िल्म 'अपूर्वा रागांगल' के लिए उन्हें पहली बार 'साउथ फ़िल्मफेयर अवार्ड' से सम्मानित किया गया। इस फ़िल्म के लिए उन्हें साउथ का सर्वश्रेष्ठ अभिनेता चुना गया। अपूर्वा रागांगल साउथ की एक बेहतरीन क्लासिकल फ़िल्म मानी जाती है। इस फ़िल्म में उनके साथ साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत भी थे। कमल हासन को वर्ष 1982 में पहला राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार 'मूनद्रम पिरई' फ़िल्म में भूमिका के लिए दिया गया था।  उनके नाम कुल 15 'साउथ फ़िल्मफेयर अवार्ड' हैं जो उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए मिले हैं जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है-

कोई टिप्पणी नहीं:

YOU CAN COMMENT/SEND/CONTACT US HERE

नाम

ईमेल *

संदेश *