SEARCH SOME THING...

बुधवार, 6 सितंबर 2017

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी की जीवनी,जन्म,मृत्यु,योगदान एवं पुरस्कार

टाइमलाइन (मुख्य तथ्य)

1907: इनका जन्म हुआ था।
1930: वह शान्ति निकेतन में हिन्दी शिक्षक के रुप में नियुक्त किए गए।
1950: शान्ति निकेतन में कार्यालय का अन्त और बीएचयू में हिन्दी विभाग के प्रमुख बने।
1960: बीएचयू में अपने कार्यालय का अन्त और पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ से जुड़ गए।
1957: उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया।
1973: साहित्य अकादमी पुरस्कार जीता।
1979: 19 मई को इनकी मृत्यु हो गई।


आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी की जीवनी

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी का जन्म 19 अगस्त 1907 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के एक ग्राम (दूबे-का-छपरा) में हुआ था और इनकी मृत्यु 19 मई 1979 को हुई थी। इनके पिता अनमोल द्विवेदी संस्कृत के विद्वान पंड़ित थे। इनकी प्रारम्भिक शिक्षा इनके गाँव के स्कूल में हुई थी।

ज्योतिष शास्त्र में अपने आचार्य की डिग्री के साथ ही संस्कृत में शास्त्री की डिग्री को पास करने के लिए, उन्हें ज्योतिष और संस्कृत के पारंपरिक स्कूल में पढ़ना पड़ा। इन्होंने विभिन्न किस्मों के उपन्यास, भारत के मध्ययुगीन आध्यात्मिक आन्दोलनों विशेष रुप से कबीर और नाथ संप्रदाय पर ऐतिहासिक शोधों को करके बहुत से निबंध लिखे।

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी महान हिन्दी उपन्यासकार, प्रसिद्ध साहित्यिक इतिहासकार, पौराणिक निबंधकार, शोधकर्ता, उत्कृष्ट लेखक, विद्वान, आधुनिक काल के आलोचक होने के साथ ही हिन्दी से अलग कई अन्य भाषाओं में मास्टर (जैसे संस्कृत, गुजराती, पाली, बंगाली, पंजाबी, अपभ्रंश और प्राकृत) थे। उन्होंने साहित्य शास्त्र के विकास में एक बड़ी भूमिका निभाई और उन्हें भारतीय लेखन के मूलपाठ की परंपरा के एक प्रसिद्ध समीक्षक के रूप में माना जाता है। वह अतीत और वर्तमान के बीच विशाल पुल निर्माता के रुप में उद्दिष्ट थे। वह नामवार सिंह, शिव प्रसाद सिंह और विश्वनाथ त्रिपाठी से बहुत अधिक प्रभावित थे। और उन्हें प्रभावित करने वाले कबीर और रबिन्द्रनाथ टैगोर थे।

इन्हें ज्योतिष के लिए जूनुन और संस्कृत के लिए प्यार अपने पुर्वजों से मिला। इन्होंने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा संस्कृत भाषा में प्राप्त की। इन्होंने अपनी इंटरमीडिएट की डिग्री पूरी की और 1930 में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से ज्योतिष में आचार्य की परीक्षा को पास किया। 1940 से 1950 तक इन्होंने विश्वभारती भवन के हिन्दी निदेशक के कार्यालय का आयोजन किया। रबिन्द्रनाथ टैगोर, क्षितिमोहन सेन, विधुशेखर भट्टाचार्य और बनारसीदास चतुर्वेदी के साथ उनके करीबी संबंधों ने उनकी साहित्यिक गतिविधि के लिए एक प्रोत्साहन के रूप में कार्य किया।................READ MORE


आचार्य शुक्ल काल के बाद वह हिन्दी साहित्य के सबसे प्रमुख व्यक्तित्व और महत्वपूर्ण साहित्यिक व्यक्ति थे। इन्होंने हिन्दी साहित्य का बहुत सी भाषाओं, जैसे- संस्कृत, पाली, प्राकृत आदि में विश्लेषण के लिए अपने अथक प्रयास किए। वह विश्वकोश मन के व्यक्ति थे और उनके लिखने और पढ़ने की क्षमता असाधारण थी। इनके सभी महान संग्रह धर्म, दर्शन, भाषा विज्ञान, इतिहास और सामान्य विज्ञान पर आधारित है। इन्होंने बहुत से लेख, थीसिस, पत्रिकाएं, रिपोर्ट और विभिन्न विषयों पर यादगार स्मारणों की रचना की।

इन्होंने हिंदू धर्म, तांत्रिक, जैन, गांधीवादी अध्ययन, मार्क्सवाद, शैव-वाद, वैष्णव-वाद, बौद्ध धर्म और सिख धर्म पर कई किताबें लिखी हैं। इनके लेखन कार्य का महान संग्रह हजारी प्रसाद द्विवेदी संग्रह (या एचडीपी संग्रह) के नाम से जाना जाता है, जिसे आईजीएनसीए (इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र, नई दिल्ली) में रखा गया है, जो शोधकर्ता विद्यार्थियों के लिए शोध करने के उद्देश्यों के लिए उपलब्ध है। इनका संग्रह जो आईजीएनसीए में सुरक्षित रखा गया है, वह इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र के लिए अपने बच्चों के द्वारा दान किया गया।

व्यवसाय

इन्होंने शान्ति निकेतन में एक हिन्दी प्राध्यापक के रुप में 18 नम्वबर 1930 को अपने कैरियर की शुरुआत की। इन्होंने 1940 में विश्वभारती भवन के कार्यालय में निदेशक के रुप में पदोन्नति प्रदान की। अपने इसी कार्यकारी जीवन में इनकी मुलाकात रबिन्द्रनाथ टैगोर से शान्ति निकेतन में हुई। इन्होंने 1950 में शान्ति निकेतन को छोड़ दिया और बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में हिन्दी विभाग के प्रमुख और अध्यापक के रुप में जुड़ गए। इसी दौरान, ये 1955 में भारत सरकार के द्वारा गठित किए गए प्रथम राजभाषा आयोग के सदस्य के रुप में भी चुने गए। कुछ समय बाद, 1960 में वह पंजाब विश्व विद्यालय, चंडीगढ़ से जुड़ गए। इन्हें पंजाब विश्व विद्यालय में हिन्दी विभाग का प्रमुख और प्रोफेसर चुना गया।

हजारी प्रसाद द्विवेदी की रचनाएं (किताबें)

पदार्थ शास्त्र
तत्व मीमांसा
पात्र कला
समाचार संपादन
समाचार संपादन और लेखन
शोध प्रविधि
मृत्युंजय रविन्द्र
महापुरुषों का स्मरण
कंभारामायन
कृतिवासारामायन
संक्षिप्त पृथ्वीरासो
संदेश रसक
अनुसंधान एंव सर्वक्षण की प्रविधियाँ
वैज्ञानिक दर्शन का उदय
मैथिली श्रीरामचरित्र-मनसा
प्लेटो गणराज्य
वेदांत सिद्धांत मत मार्तंड
ब्रह्मसूत्र भाषा
राम कथा
कश्मीरी राम अवतार चरित्र
हजारी प्रसाद द्विवेदी ग्रंथावली
मेघदूतः एक पुरानी कहानी
प्राचीन भारत के कलात्मक विनोद
सहज साधना
संदेश रसक
सिख गुरुओं का पुनःस्मरण
सूर साहित्य
विचार प्रवाह
नाथ सिद्धों की रचानाएं
मंत्र तंत्र
मेघदूत एक पुरानी कहानी
रजनी दिन नित्य चला ही क्या
स्वतंत्रता संघर्ष का इतिहास
भाषा साहित्य और देश
नृत्य साहित्य की भारतीय परंपरा और दर्शोपक
हिन्दी भाषा का विराट ऐतिहासिक व्याकरण


हजारी प्रसाद द्विवेदी की कहानियाँ

आम फिर बौरा गए
शिरीष के फूल
भगवान महाकाल का कुंथानृत्य
महात्मा के महा परायण के बाद
ठाकुर जी की वटूर
संस्कृतियों का संगम
समालोचक की डाक
माहिलों की लिखी कहानियाँ
केतु दर्शन
ब्रह्मांड का विस्तार
वाह चला गया
साहित्यिक संस्थाएं क्या कर सकती है
हम क्या करें
मुनष्य की सर्वात्तम कृति: साहित्य
आन्तरिक सुनिश्चिता भी आवश्यक है
समस्याओं का सबसे बड़ा हल
साहित्य का नया कदम
आदिकाल के अन्तर्प्रान्तीय साहित्य का ऐतिहासिक महत्व
अन्य महान कार्य

इनका रचनात्मक और आलोचनात्मक साहित्यिक लेखों में महान योगदान है। इनके कुछ महत्वपूर्ण कार्य साहित्य की भूमिका और हिन्दी साहित्य का आदिकाल है। इन दोनों रचनाओं ने हिन्दी के आलोचन के इतिहास को नया तरीका और रास्ता प्रदान किया है। भारत के मध्ययुगीन आध्यात्मिक जीवन के ऐतिहासिक विश्लेषण से संबंधित कुछ रचनाएं निम्नलिखित है:

कबीर
नाश सम्प्रदाय
मध्यकालीन धर्म साधना
हिन्दी साहित्य की भूमिका
पुर्नवा
चारुचन्द्र लेख
अनामदास का पौथा
उनके कुछ महान और उत्कृष्ट निबंध निम्नलिखित है:

अशोक के फूल
कुटज
नाखून क्यों बढ़ते हैं
विचार प्रवाह
कल्पलता
विचार और वितर्क
आलोक पर्व
उनके कुछ हिन्दी अनुवाद है:

पुरातन प्रबंध संग्रह
प्रबंध चिन्तामणि
लाल कनेर
विश्व परिचय
उनकी इतिहास पर कुछ रचनाएं निम्न है:

सुर-साहित्य
साहित्य संचार
कालीदास की लालित्य योजना
हिन्दी साहित्य: उद्भव और विकास
हिन्दी साहित्य का आदिकाल
आधुनिक हिन्दी साहित्य पर विचार
साहित्य का मर्म
लालित्य मीमांसा
मध्यकालीन बौद्ध का स्वरुप
पुरस्कार और उपलब्धियाँ

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी को 1957 में हिन्दी के क्षेत्र में अपने महान साहित्यिक योगदान के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।
आलोक पर्व के नाम से प्रसिद्ध निबंध के सेट के लिए इन्हें 1973 में साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया।
इन्हें पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ के द्वारा प्रोफेसर के पद के साथ ही हिन्दी विभाग के अध्यक्ष के रुप में सम्मानित किया गया।
इन्होंने एक रेक्टर के रुप में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में भी कार्य किया।
इन्होंने हिन्दी अकादमी लखनऊ में यूपी की अध्यक्षता की।

कोई टिप्पणी नहीं:

YOU CAN COMMENT/SEND/CONTACT US HERE

नाम

ईमेल *

संदेश *