SEARCH SOME THING...

सोमवार, 4 सितंबर 2017

गांधी जी की जीवनी,जन्म,मृत्यु,कार्य एवं योगदान ( महात्मा गांधी की आत्म कथा) biography of Gandhi ji in Hindi

जब गांधी जी ने भाई का कड़ा चोरी कर उतारा था कर्जा

kvskidszone


महात्मा गांधी की आत्मकथा
सत्य और अहिंसा के पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर में एक वैष्णव हिंदू परिवार में हुआ था। उनकी माता का नाम पुतली बाई और पिता का नाम करमचंद गांधी था। उनके परिवार में हिंदू संस्कृति के सभी कर्मकांड प्रचलित थे। उनकी माता धार्मिक महिला और पिता पेशे से दीवान थे।




गांधी के जीवन की गई ऐसी घटनाएं रही जिनका जिक्र उन्होंने अपनी आत्मकथा ‘सत्य व उसके प्रयोग’में किया है। इस लेख के जरिए आगे की स्लाइड में पढ़िए गांधी जी के जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्से।


15 साल की उम्र में हो गया था कर्जा 
kvskidszone

15 साल की उम्र में हो गया था कर्जा
गांधी जी ने अपनी आत्मकथा में एक चोरी करने की एक घटना का वर्णन किया है, उन्होंने इसमें लिखा है कि 15 साल की उम्र में मेरे पर कुछ कर्जा हो गया, इसे चुकाने के लिए उन्होंने भाई के हाथ में पहने हुए सोने के कड़े से एक तोला सोना कटवाकर सुनार को बेचकर कर्जा चुकाया था।


इसके बाद यह बात उनके लिए असहनीय हो गई। उन्हें लगा कि यदि पिताजी से इस चोरी की बात को बता देंगे, तो ही उनका मन शांत होगा। लेकिन पिता के सामने यह बताने की उनकी हिम्मत नहीं हुई और उन्होंने एक पत्र के जरिए पिता को सारी बात बता दी।

जो अच्छा नहीं लगा उसे याद ही नहीं रखा
kvskidszone
जो अच्छा नहीं लगा उसे याद ही नहीं रखा
गांधीजी ने अपनी आत्मकथा में लिखा है कि वे जो कुछ भी पढ़ते थे, उसमें से उन्हें जो अच्छा और उपयोगी लगता था, उसे ही वह याद रखते थे। लेकिन जो उन्हें पसन्द नहीं आता था, उसे वे भूल जाते थे या भुला दिया करते थे।


गांधीजी का यही स्वभाव आगे चलकर बुरा न देखना, बुरा न सुनना और बुरा न बोलना के रूप में गांधी जी के तीन बंदरों की तरह याद किया जाने लगा, लेकिन गांधीजी का अच्छे को चुनने और बुरे को छोड़ देने का स्वभाव 13 और 14 साल जैसी किशोरावस्था में भी था।

जब कस्तूरबा गांधी से बंद हो गई बोलचाल 
kvskidszone


गांधी जी ने अपनी आत्मकथा में लिखा है कि जब मेरी शादी हुई तो एक किताब में मैंने पढ़ा कि एक पत्नी-व्रत पालना पति का धर्म है। इससे यह भी समझ में आ गया कि दूसरी स्त्री से संबंध नहीं रखना चाहिए। लेकिन इन सदविचारों का एक बुरा परिणाम भी निकला।

मैं यह मानने लगा कि पत्नी को भी एक-पति-व्रत का पालन करना चाहिए। इस विचार के कारण मैं ईष्र्यालु पति बन गया और मैं पत्नी की निगरानी करने लगा। मैं सोचने लगा कि मेरी अनुमति के बिना वह कहीं नहीं जा सकती।

यह चीज हम दोनों के बीच झगड़े की जड़ बन गई। कस्तूरबा ऐसी कैद सहन करने वाली नहीं थी। जहां इच्छा होती वह वहां मुझसे पूछे बिना जाती। इससे हम दोनों के बीच बोलचाल तक बंद हो गई।

श्रवण कुमार से हुए प्रभावित 
kvskidszone

गांधी जी ने आत्मकथा में यह भी बताया है कि वह श्रृवण की पितृ भक्ति से बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने लिखा कि उन्हें पढ़ने लिखने का तो बहुत ज्यादा शौक नहीं था। एक बार उन्होंने ‘श्रृवण पितृ भक्ति नाटक’ नामक पुस्तक पढ़ी। यह पुस्तक उनके पिताजी की थी।


वे उस पुस्तक को पढ़कर श्रृवण के पात्र से इतना प्रभावित हुए कि जिंदगी भर श्रृवण की तरह मातृ-पितृ भक्त बनने की कोशिश करते रहे। साथ ही उन्होंने अपने संपर्क में आने वाले सभी लोगों को ऐसा बनाने का भी प्रयास किया।


जीवनभर बने रहे सत्य के खोजी 
kvskidszone

गांधी जी ने बचपन में ‘सत्यवादी राजा हरीशचन्द्र’ का एक दृश्य नाटक देखा। उस नाटक के राजा हरीशचन्द्र के पात्र से वह इतना प्रभावित हुए कि जिंदगी भर राजा हरीशचन्द्र की तरह सत्य बोलने का व्रत ले लिया। उन्होंने समझ लिया था कि सत्य के मार्ग पर चलने से जीवन में कठिनाइयां आती हैं लेकिन सत्य का मार्ग छोड़ना नहीं चाहिए।


बालपन में ही सत्यानवेषण से संबंधित उनके मन पर पड़े हुए राजा हरीशचन्द्र के प्रभाव ने जीवनभर गांधी जी को सत्य का खोजी बनाए रखा।


गांधीजी के लिए ‘सत्य’एक प्रकार का शौक
गांधीजी खुद को हमेशा सत्य का पुजारी कहते थे। उनका अनुभव था कि सत्य के पक्ष में खड़े रहना हमेशा आसान नहीं होता लेकिन किसी भी परिस्थिति में सत्य के पक्ष में खड़े रहना ही सत्य की पूजा है। गांधीजी के लिए ‘सत्य’ एक प्रकार का शौक था, जिसे वे जीवनभर अपने मनोरंजन की तरह प्रयोग में लेते रहे।


उन्हें सत्य के साथ खेलने में मजा आता था। जब लोग अपनी किसी गलती को छिपाने के लिए झूठ बोलकर बचना चाहते थे, तब गांधीजी उसी गलती को सच बोलकर होने वाली प्रतिक्रिया को देखने में ज्यादा उत्सुक दिखाई पड़ते थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

YOU CAN COMMENT/SEND/CONTACT US HERE

नाम

ईमेल *

संदेश *